Govind Namdev Birthday : गोविंद ने जानबूझकर चुनी थी इंडस्ट्री में खलनायिकी की राह, जाने पॉजिटिव रोल्स को ठुकराने वाले एक्टर की कुछ बातें 

मनोरंजन न्यूज़ डेस्क – ‘ठाकुर समय के अनुसार नहीं चलता, समय ठाकुर के अनुसार चलता है…’ फिल्म ‘विरासत’ का ये डायलॉग गोविंद नामदेव की याद दिलाता है। बॉलीवुड का एक ऐसा अभिनेता, जिसकी एक्टिंग जानदार है और आवाज लाजवाब है। ज्यादातर फिल्मों में इंस्पेक्टर और विलेन के किरदार में नजर आए। हैरानी की बात तो ये है कि उन्होंने जानबूझकर नेगेटिव रोल ही किए। उन्होंने डेविड धवन की ‘शोला और शबनम’ (1992) फिल्म से सिनेमा की चमचमाती दुनिया में कदम रखा, लेकिन इससे पहले उन्होंने करीब 11 साल तक थिएटर की दुनिया पर राज किया। मध्य प्रदेश के सागर में जन्मे गोविंद जब छठी कक्षा में थे, तब महात्मा गांधी के विचारों ने उन पर इतना प्रभाव डाला कि उन्होंने एक महान आदमी बनने का फैसला किया और उनका दृढ़ संकल्प उन्हें वहां ले आया जहां वह आज हैं। आज उनके जन्मदिन पर आइए जानते हैं उनके दिलचस्प सफर के बारे में।


गोविंद नामदेव का जन्म 3 सितंबर 1954 को सागर, मध्य प्रदेश में हुआ था। उनके पिता भगवान के कपड़े डिजाइन और सिलाई करते थे। यह उनके घर का पुश्तैनी काम था. गोविंद 10 भाई-बहनों में चौथे नंबर पर थे। उनमें बचपन से ही प्रथम आने की ललक थी। चाहे पढ़ाई हो या खेल। आपको जानकर हैरानी होगी कि वह गिल्ली डंडा या कांचा खेलने से पहले अभ्यास करते थे, ताकि जब वह दूसरे बच्चों के साथ खेलें तो उन्हें हरा सकें। जब गोविंद छठी कक्षा में थे, तब उन्होंने महात्मा गांधी की पुस्तक पढ़ी और उनके विचारों से बहुत प्रभावित हुए। उन्होंने उस समय की अन्य महान हस्तियों की किताबें पढ़ीं और तय कर लिया कि वह भी एक महान इंसान बनेंगे। उस समय उनके मन में यह बात बैठ गई थी कि बड़ा आदमी बनने के लिए दिल्ली जाना होगा। 8वीं क्लास में वह अपने माता-पिता से जिद करके दिल्ली आ गए।


गोविंद नामदेव ने 11 साल तक थिएटर किया
गोविंद नामदेव ने दिल्ली में एनएसडी में प्रवेश लिया। यहां भी वे प्रथम आते थे। अपनी पढ़ाई पूरी करने के बाद उन्होंने 11 साल तक नेशनल स्कूल ऑफ ड्रामा थिएटर में काम करने का फैसला किया। यहां उन्होंने अभिनय में सुधार किया। कई यादगार नाटक किये. इसके बाद उन्होंने मुंबई का रुख किया। जहां पहुंचने के बाद उन्हें केतन मेहता की ‘सरदार’ में काम करने का मौका मिला। उन्हें डेविड धवन की ‘शोला और शबनम’ फिल्म मिली, जो ‘सरदार’ से पहले रिलीज हुई थी। इसीलिए गोविंद इसे अपनी पहली फिल्म मानते हैं।


गोविंद नामदेव ने कई फिल्मों में काम किया है
इसके बाद गोविंद ने कभी पीछे मुड़कर नहीं देखा। उन्होंने कई शानदार फिल्मों में काम किया। उदाहरण के तौर पर उन्होंने ओह माय गॉड में सिद्धेश्वर महाराज बनकर दर्शकों का मनोरंजन किया। इसके अलावा वह बैंडिट क्वीन, विरासत, कच्चे धागे, फिर भी दिल है हिंदुस्तानी, सरफरोश, राजू चाचा, पुकार, कयामत समेत कई फिल्मों में नजर आए।


गोविंद नामदेव ने कई नकारात्मक भूमिकाएं कीं
क्या आप जानते हैं कि शुरुआत में गोविंद नामदेव ने जानबूझकर नकारात्मक भूमिकाएं ही करने का फैसला किया था। उन्हें ज्यादातर विलेन के किरदार में ही देखा गया। उन्होंने खुद बताया कि वो ऐसा क्यों करते थे! उन्होंने एक इंटरव्यू में खुलासा किया कि वह सकारात्मक भूमिकाएं ठुकरा देते थे। उन्होंने देखा था कि हिंदी फिल्मों में तीन ही किरदार होते हैं- हीरो, हीरोइन और विलेन। बाकी सब गौण हैं न तो वे ठीक से फोकस कर पाते हैं और न ही उन पर कोई ध्यान देता है। वे फिल्मों में फिलर्स की तरह हैं। बाद में चीजें भले ही बदल गईं, लेकिन उनके समय में ऐसा ही हुआ करता था।’ वह दूसरी पंक्ति में प्रवेश नहीं करना चाहता था। उन्होंने प्राण और अमरीश पुरी जैसे शानदार खलनायकों को ध्यान में रखते हुए नकारात्मक भूमिकाएँ करना पसंद किया।






Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *