UP News: इंटरनेट मीडिया पर समय बर्बाद करते हैं 76 प्रतिशत युवा, Lucknow University के सर्वे में सामने आई बात

जागरण संवाददाता, लखनऊ: देश के टियर टू और थ्री बाजारों एवं भीतरी इलाकों के गांवों से उपभोक्ताओं को ट्रैक करने के लिए रेडिफ्यूजन और लखनऊ विश्वविद्यालय की ओर से लांच थिंक टैंक ने ‘अपना टाइम आ गया’ शीर्षक से शुक्रवार को रिपोर्ट जारी की है। भारत में युवा द्वारा नष्ट किए जाने वाले समय पर अध्ययन में पता चला है कि उनकी खेलों में रुचि कम हो रही है।

सिर्फ 24 प्रतिशत युवाओं की आबादी अपने खाली समय में टेलीविजन देखना पसंद करती है। 76 प्रतिशत लोग इंटरनेट और अन्य आनलाइन मीडिया पर समय बिताना पसंद करते हैं।यह रिपोर्ट अगस्त 2023 के दौरान भारत के कस्बों और गांवों में कालेज जाने वाले 1100 छात्र-छात्राओं के बीच मीडिया उपभोग की आदतों पर किए गए शोध का परिणाम है। रेडिफ्यूजन के अध्यक्ष डा. संदीप गोयल के अनुसार, यूट्यूब और वाट्सएप की प्रधानता उपयोग में उनकी सर्वव्यापकता को दर्शाती है।

बिजनेस एडमिनिस्ट्रेशन विभाग की प्रमुख प्रो. संगीता साहू ने बताया कि भारत में युवाओं पर हमारे शोध के निष्कर्ष पुरुषों और महिलाओं के लिए बदलती प्राथमिकताओं और अवसरों के संकेत हैं। भारत में युवा इस तरह नष्ट करते हैं समय

सामाजिक मेलजोल

केवल 18 प्रतिशत युवा सप्ताह के दिनों के साथ-साथ सप्ताह के अंत में भी दोस्तों और परिवार के साथ चार घंटे से अधिक समय बिताते हैं।

87 प्रतिशत हिस्सा मनोरंजन या समाचार के लिए रेडियो का उपयोग नहीं करता। केवल 24 प्रतिशत आबादी अपने खाली समय में टेलीविजन देखना पसंद करती है।

इंटरनेट मीडिया

56 प्रतिशत आबादी मनोरंजन के लिए सोशल मीडिया का उपयोग करती है। लगभग 70 प्रतिशत अन्य प्लेटफार्मों की तुलना में यूट्यूब और वाट्सएप को पसंद करते हैं। भारत में 70 प्रतिशत युवा कभी भी फेसबुक का उपयोग नहीं करते या बहुत कम करते हैं। मनोरंजन प्लेटफार्म में यूट्यूब पसंदीदा मंच है।

लगभग 23 प्रतिशत समाचार पत्र और पत्रिकाएं पढ़ते हैं।समय का सदुपयोग करने वाले युवा16-25 वर्ष की आयु वाले 43 प्रतिशत युवा चार से आठ घंटे यूजी, पीजी कालेज या ट्यूशन में बिताते हैं।

घरेलू कामकाज

76 प्रतिशत युवा घरेलू काम और घर के आसपास मदद करने में दो घंटे तक का समय बिताते हैं।

खेल 

केवल 15 प्रतिशत महिलाएं और 35 प्रतिशत पुरुष अपने खाली समय में अन्य गतिविधियों की तुलना में शारीरिक खेल चुनते हैं।

लखनऊ विश्वविद्यालय के कुलपति प्रो. आलोक कुमार राय का कहना है कि- 

Posted By Mohammad Sameer

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *