KBC Season 15: कौन बनेगा करोड़पति में पूछे गए वो 5 बड़े सवाल, जिनका जवाब देने वालों की चमकी किस्‍मत

Kaun Banega Crorepati: टीवी के मशहूर क्विज शो ‘कौन बनेगा करोड़पति’ का लोगों को बेसब्री से इंतजार रहता है. आज रात इस क्विज शो के 15वें सीजन का आगाज हो रहा है. पूछे जाने वाले सवालों और मिलने वाली पुरस्‍कार के साथ ही अमिताभ बच्‍चन की शानदार एंकरिंग के भी लोग कायल हैं. लिहाजा, सदी के महानायक अमिताभ बच्‍चन ने भी शो को लेकर अपनी तैयारी पूरी कर ली है. इस बार शो में कुछ बदलाव किए गए हैं. जानकारी के मुताबिक, शो में नई लाइफलाइन ‘सुपर संदूक’ जोड़ी गई है. ये लाइफलाइन प्रतियोगी को खो चुकी किसी चीज को रिवाइव करने की सुविधा देती है. इससे खेल का रोमांच बढ़ जाएगा.

केबीसी बीते 23 साल से दर्शकों मनोरंजन कर रहा है. यह शो हर सोमवार से शुक्रवार रात 9 बजे सोनी चैनल पर प्रसारित होगा. ये शो ज्ञान और मनोरंजन से भरपूर होने के कारण हर उम्र के दर्शकों को अपनी ओर खींचता रहा है. अब तक कौन बनेगा करोड़पति ने काफी लोगों को उनके ज्ञान के दम पर मोटी रकम जीतने का मौका दिया है. हालांकि, आखिरी सवाल तक पहुंचने वाले कम ही प्रतिभागी रहे हैं. फिर भी अब तक कई प्रतिभागी एक करोड़ रुपये से लेकर 7 करोड़ रुपये तक जीत चुके हैं. सबसे ज्‍यादा 7 करोड़ रुपये जीतने वाले प्रतिभागी केबीसी जूनियर में आए थे. वहीं, एक प्रतिभागी ऐसे भी थे, जिन्‍होंने 7.5 करोड़ रुपये के सवाल का गलत जवाब दिया और 75 लाख रुपये लेकर लौटे. अब तक करोड़पति बने 5 लोगों और उनसे पूछे गए सवाल के बारे में जानते हैं.

ये भी पढ़ें – केवल वीकेंड पर नींद पूरी करने से नहीं सुधरेगी आपके दिल की सेहत, फिर क्‍या करें?

संबंधित खबरें

सुशील कुमार ने किस सवाल का जवाब देकर जीते ₹5 करोड़
बिहार के रहने वाले सुशील कुमार 2 नवंबर 2011 को कौन बनेगा करोड़पति के सीजन-5 में नजर आए थे. वह केबीसी में 5 करोड़ रुपये जीतने वाले पहले प्रतियोगी हैं. वह मनरेगा में कंप्‍यूटर प्रशिक्षक थे. उन्‍हें 6,000 रुपये प्रति का भुगतान मिलता था. अमिताभ बच्‍चन ने उनसे 5 करोड़ रुपये के लिए 13 सवाल पूछे थे. उनसे आखिरी प्रश्‍न पूछा गया था, 18 अक्टूबर 1868 को किस औपनिवेशिक शक्ति ने निकोबार द्वीप समूह के अधिकार अंग्रेजों को बेचकर भारत में अपनी भागीदारी समाप्त कर दी?. विकल्‍प के तौर पर ए-बेल्जियम, बी-इटली, सी-डेनमार्क और डी-फ्रांस दिए गए थे. सुशील कुमार ने एक करोड़ रुपये जीतने के बाद काफी तनाव और उम्‍मीद के साथ पूरा लॉजिक लगाकर ऑप्‍शन-सी डेनमार्क जवाब दिया, जो सही था. सुशील कुमार को असली ‘स्‍लमडॉग मिलेनियर’ करार दिया गया है.

डेनमार्क ने 200 साल किया भारत के एक हिस्‍से पर पर शासन
डैनिश भारत आए तो व्यापार करने के लिए थे, लेकिन बाद में देश के एक हिस्से पर 200 साल से ज्‍यादा समय तक शासन किया. मसालों के व्यापार से मुनाफा कमाने के लिए डेनमार्क के शासक क्रिश्चियन चतुर्थ ने 1616 में सीलोन और भारत के साथ काली मिर्च व इलायची का व्यापार करने के लिए डैनिश ईस्ट इंडिया कंपनी बनाई थी. इसी के जरिये डेनमार्क ने दो सदी तक भारत पर राज किया. हालांकि, नेपोलियन से युद्ध के दौरान 1801 और 1807 में ब्रिटेन ने कोपेनहेगन पर हमला किया. जब एंग्लो-डैनिश दुश्मनी की खबर भारत पहुंची तो अंग्रेजों ने 28 जनवरी 1808 को 7 डैनिश व्यापारी जहाजों पर कब्‍जा कर लिया. बाद में डेनमार्क के राजा ने 1845 में त्रांकेबार, बालासोर और सेरामपुर को 12.5 लाख रुपये में ब्रिटेन को बेच दिया. फिर डेनमार्क ने 18 अक्‍टूबर 1868 को निकोबार द्वीप समूह के अधिकार अंग्रेजों को बेचकर भारत में अपनी भागीदारी पूरी तरह से खत्‍म कर दी.

ये भी पढ़ें – भारतीय इतिहास का सबसे मुश्किल दिन क्‍यों है 14 अगस्‍त, लाखों लोगों को चुकानी पड़ी थी आजादी की भारी कीमत

सनमीत कौर साहनी ने सीजन-6 में जीते थे 5 करोड़ रुपये
कौन बनेगा करोड़पति के सीजन-6 में 12 जनवरी 2013 को एक करोड़ रुपये जीत चुकीं सनमीत कौर साहनी से 5 करोड़ रुपये के लिए 13वां प्रश्‍न पूछा गया. उनसे पूछा गया, ‘विश्व की दूसरी सबसे ऊंची पर्वत चोटी K2 पर सफलतापूर्वक चढ़ने वाली पहली महिला कौन है?’ उन्‍हें ऑप्‍शन-ए में जंको ताबेई, बी में वांडा रुटकिविज, सी में तमाए वतनबे और डी में चैंटल माडुइट मिले थे. उन्‍होंने ऑप्‍शन-बी वांडा रुटकिविज को लॉक किया, जो सही था और 5 करोड़ रुपये जीत लिए. वह केबीसी में 5 करोड़ रुपये जीतने वाली दूसरी प्रतियोगी बनीं.

ये भी पढ़ें – Explainer: कैसे लगती है जंगलों में आग, कौन है इसके लिए जिम्‍मेदार, कैसे रोका जा सकता है इसे

वांडा का अभियान रहा सफल, एक साथी की हुई मौत
दुनिया की दूसरी सबसे ऊंची पर्वत चोटी K2 समुद्र तल से 8,611 मीटर की ऊंचाई पर है. के-2 काराकोरम रेंज में है, जिसका आंशिक हिस्‍सा पाकिस्तान अधिकृत कश्मीर के गिलगित बाल्टिस्तान में और कुछ हिस्‍सा चीन प्रशासित ट्रांस-काराकोरम ट्रैक्ट में झिंजियांग के टैक्सकोर्गन ताजिक में है. दुनिया के पांच सबसे ऊंचे पहाड़ों में के-2 सबसे घातक है. शिखर पर पहुंचने वाले हर चार में एक व्यक्ति की पहाड़ पर ही मृत्यु हो जाती है. के-2 पर 23 जून 1986 को चढ़ने वाली पहली महिला पोलैंड की पर्वतारोही वांडा रूटकिविज थीं. लिलियन और मौरिस बैरार्ड इसी दिन उनके बाद शिखर पर पहुंचे थे. उतरने के दौरान गिरकर लिलियन बैरार्ड की मौत हो गई. उनका शव 19 जुलाई 1986 को दक्षिण मुख के तल पर पाया गया था.

अचिन-सार्थक की जोड़ी ने जीते पूरे 7 करोड़ रुपये
केबीसी के सीजन-8 में 9 अक्‍टूबर 2014 को पहुंचे अचिन और सार्थक नरूला की जोड़ी ने अब तक का सबसे बड़ा कारनामा किया था. उन्‍होंने 7 करोड़ रुपये की इनामी राशि के लिए 14वें सवाल का जवाब दिया. उनसे पूछा गया, ‘सूरत में उतरने वाले पहले ब्रिटिश व्यापारिक जहाज ‘हेक्टर’ की कमान किसने संभाली?’ ऑप्‍शन-ए में पॉल कैनिंग, बी में विलियम हॉकिन्‍स, सी में थॉमस रे और डी में जेम्‍स लैंकेस्‍टर के नाम दिए गए थे. इस जोड़ी ने आपसी विचार विमर्श करने के बाद ऑप्‍शन-बी विलियम हॉकिन्‍स को लॉक किया. काफी देर तक उलझाने के बाद आखिर में शो के एंकर अमिताभ बच्‍चन ने जोशीले अंदाज में उन्‍हें बताया कि उनका जवाब सही है. वे एशियाई WWTBAM फ्रेंचाइजी में अब तक के सबसे बड़े विजेताओं में हैं.

ये भी पढ़ें – बौद्ध म्‍यूरल्‍स पर मंडरा रहा है खतरा, किस वजह से गायब होने की कगार पर पहुंचीं ये प्राचीन धरोहर?

भारत क्‍यों आए थे कैप्‍टन विलियम हॉकिन्‍स
साल 1608 में सूरत में कैप्‍टन विलियम हॉकिन्स भारत आने वाले पहले अंग्रेज थे. उन्होंने इंग्लेड के राजा जेम्स फर्स्‍ट के पत्र के साथ व्यापार की अनुमित मांगने के लिए मुगल सम्राट जहांगीर के दरबार का दौरा किया था. वह ब्रिटेन के व्‍यापारिक जहाज हेक्‍टर से भारत पहुंचे थे. हॉकिन्स दो साल तक जहांगीर के दरबार में दूत रहे. ईस्ट इंडिया कंपनी ने सूरत में एक फैक्ट्री लगाने की औपचारिक मंजूरी हासिल करने के लिए विलियम हॉकिन्स को भेजा था.

ये भी पढ़ें – किस जंग के लिए ब्राजील समेत 8 देश हुए एकजुट, कैसे दुनिया पर असर डालेगी उनकी मुहिम

खेल से जुड़े सवाल का जवाब देकर रवि बने करोड़पति
रवि मोहन सैनी 14 मई 2001 को करोड़पति जूनियर में शामिल हुए थे. उन्‍होंने 15 सवालों के सही जवाब देकर एक करोढ़ रुपये की राशि जीती थी. वह महज 14 साल की उम्र में केबीसी में आकर करोड़पति बन गए थे. रवि मोहन सैनी से एक करोड़ रुपये के लिए खेल से जुड़ा सवाल पूछा गया था. उनसे 15वां सवाल पूछा गया, ‘1992 में राजीव गांधी खेल रत्‍न पुरस्कार से सम्मानित होने वाले पहले खिलाड़ी कौन बने?’ ऑप्‍शनंस में चेस चैंपियन विश्‍वनाथन आनंद, क्रिकेटर सचिन तेंदुलकर, स्‍नूकर प्‍लेयर गीत सेठी और टेनिस प्‍लेयर लिएंडर पेस के नाम दिए गए थे. उन्‍होंने जवाब देते हुए ऑप्‍शन-ए विश्‍वनाथन आनंद को चुना और एक करोड़ रुपये जीत लिए.

अब तक सिर्फ दो साल नहीं दिया गया खेल रत्‍न पुरस्‍कार
खेल के क्षेत्र में प्रदान किया जाने वाला सर्वोच्च पुरस्कार राजीव गांधी खेल रत्‍न पुरस्‍कार सबसे पहले वर्ष 1991-92 में शतरंज के भारतीय खिलाड़ी विश्वनाथ आनंद को दिया गया था. निशानेबाज अभिनव बिंद्रा सबसे कम उम्र में यह पुरस्कार पाने वाले खिलाड़ी हैं. उन्होंने यह पुरस्कार 18 वर्ष की उम्र में हासिल किया था. यह पुरस्कार हर साल दिया जाता है, लेकिन 2008 और 2014 में किसी भी खिलाड़ी को नहीं दिया गया था. हर साल यह पुरस्कार 29 अगस्त को दिया जाता है क्योंकि 29 अगस्त को भारत में ‘राष्ट्रीय खेल दिवस’ मनाया जाता है.

ये भी पढ़ें – हनुमान जी की काले रंग की प्रतिमा की कहां-कहां होती है पूजा, क्या है इसके पीछे की पौराणिक कथा

एक करोड़ रुपये जीतने वाले पहले प्रतियोगी कौन थे
कौन बनेगा करोड़पति के पहले सीजन में 19 अक्‍टूबर 2000 को हर्षवर्द्धन नवाथे नजर आए थे. वह केबीसी के सभी 15 सवालों का सही जवाब देकर एक करोड़ रुपये जीतने वाले पहले प्रतियोगी बने थे. उनसे एक करोड़ रुपये के लिए 15वां सवाल पूछा गया था, ‘इनमें से किसे भारतीय संविधान संसद की कार्यवाही में भाग लेने की अनुमति देता है?’ जवाब के लिए सॉलिसिटर जनरल, अटॉर्नी जनरल, कैबिनेट सचिव और मुख्य न्यायाधीश ऑप्‍शंस दिए गए थे. नवाथे ने ऑप्‍शन-बी अटॉर्नी जनरल को लॉक किया और एक करोड़ रुपये की इनामी राशि जीत ली.

.

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *