BJP Leader Purnesh Modi Remark On Supreme Court Staying Conviction Of Rahul Gandhi In Modi Surname Remark Case

Purnesh Modi On Rahul Gandhi: ‘मोदी सरनेम’ वाले मानहानि मामले में राहुल गांधी की सजा पर सुप्रीम कोर्ट की ओर से रोक लगाए जाने के फैसले पर शिकायतकर्ता पूर्णेश मोदी की प्रतिक्रिया सामने आई है. बीजेपी नेता पूर्णेश मोदी ने कहा है कि वह अदालत के आदेश का सम्मान करते हैं लेकिन कानूनी लड़ाई जारी रखेंगे.

सुप्रीम कोर्ट ने शुक्रवार (4 अगस्त) को मोदी सरनेम मामले में राहुल गांधी की दोषसिद्धि पर रोक लगाते हुए उनकी लोकसभा की सदस्यता बहाल कर दी. जस्टिस बीआर गवई, जस्टिस पीएस नरसिम्हा और जस्टिस संजय कुमार की बेंच ने कहा कि इसमें कोई संदेह नहीं है कि टिप्पणी उचित नहीं थी और सार्वजनिक जीवन में भाषण देते समय एक व्यक्ति से सावधानी बरतने की उम्मीद की जाती है.

अधिकतम सजा देने का कोई कारण नहीं बताया गया- SC

बेंच ने कहा, “निचली अदालत के जज की ओर से अधिकतम सजा देने का कोई कारण नहीं बताया गया है, ऐसे में अंतिम फैसला आने तक दोषसिद्धि के आदेश पर रोक लगाने की जरूरत है.”

राहुल गांधी ने गुजरात हाई कोर्ट के फैसले को सुप्रीम कोर्ट में चुनौती दी थी, जिस पर शीर्ष अदालत ने सुनवाई करते हुए यह फैसला सुनाया है. गुजरात हाई कोर्ट ने ‘मोदी सरनेम’ वाले मानहानि मामले में राहुल गांधी की दोषसिद्धि पर रोक लगाने का आग्रह करने वाली उनकी याचिका खारिज कर दी थी.

राहुल गांधी की इस टिप्पणी पर बवाल

गुजरात के पूर्व मंत्री पूर्णेश मोदी ने 13 अप्रैल 2019 को कर्नाटक के कोलार में एक चुनावी सभा में मोदी सरनेम के संबंध में की गई कथित विवादित टिप्पणी को लेकर राहुल के खिलाफ आपराधिक मानहानि का मुकदमा दर्ज कराया था. राहुल ने सभा में टिप्पणी की थी कि “सभी चोरों का एक ही सरनेम मोदी कैसे हो सकता है?”

न्याय की जीत हुई- कांग्रेस

कांग्रेस पार्टी ने राहुल गांधी को राहत देने वाले सुप्रीम कोर्ट के फैसले का स्वागत किया है और इसे ‘न्याय की जीत’ बताया है. कांग्रेस के संगठन महासचिव केसी वेणुगोपाल ने ट्वीट किया, ‘‘हम राहुल गांधी जी की दोषसिद्धि पर रोक लगाने वाले माननीय सर्वोच्च न्यायालय के फैसले का स्वागत करते हैं. यह राहुल गांधी जी का दृढ़ विश्वास है. न्याय की जीत हुई है. कोई भी ताकत जनता की आवाज को दबा नहीं सकती.’’

यह भी पढ़ें- Modi Surname Case: राहुल गांधी को सुप्रीम कोर्ट से बड़ी राहत, सजा पर रोक, बहाल होगी संसद सदस्यता

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *