मां बनने के सपने में मोटापा हो सकता है भारी, मोटापे से बचने के लिए जानें जरूरी

मोटापा गर्भावस्था को कैसे प्रभावित करता है: मोटापे से ग्रस्त व्यक्ति का मोटापा कई तरह से स्वास्थ्य पर भारी होता है। ये औषधीय स्वास्थ्य के लिए है खतरनाक ही खतरनाक मेंटल स्वास्थ्य के लिए भी है खतरनाक. इसके बावजूद लोग इस परेशानी को नजरअंदाज करते हैं। अन्य कारणों से मोटापा और अन्य तकलीफों का कारण बनता है। उन महिलाओं के लिए जो कंसीव करना चाहती हैं, लेकिन शिकार का शिकार हैं। ये मोटा आदमी बनने के सपने के बीच बड़ा रोड़ा बन कर सामने आता है।

अंतिम पर प्रभाव का प्रभाव

मुख्य बी मनोविज्ञान का मानना ​​है कि शरीर में मास की प्रक्रिया से ओल्यूशन की प्रक्रिया हो सकती है। इसकी वजह से कंसीव करना मुश्किल हो जाता है।

आईवीएफ का खतरा

ओबेसिटी की शिकार महिला पर आईवीएफ भी आतंकवादी होगा या नहीं, कहा नहीं जा सकता।

मिसकैरिज का खतरा

ओबेसिटी से पीड़ित महिलाओं के लिए होता है ये सबसे बड़ा खतरा। हो सकता है उनका गर्भ गिर जाए. या, फिर बच्चा मरा ही पैदा हुआ।

हृदय से जुड़ी समस्या

कोई भी गर्भवती महिला मोटापे का शिकार होती है तो उसे हार्ट डिजीज या कार्डियोवस्कुलर डिजीज होने का खतरा बढ़ जाता है।

सोने में खराबी

ओबेसिटी से पीड़ित महिला को सोने में परेशानी हो सकती है। मोटापे से ग्रस्त गर्भवती महिला को स्लीप एपेनिया हो सकता है। जो गंभीर अवस्था में भी हो सकता है।

अन्य ट्रकों को आराम

ओबेसिटी के साथ-साथ कंसीव करना शरीर के अन्य उपयोगों के लिए मुश्किल हो सकता है। लिवर, ऑर्गेनिज्म जैसे ऑर्गैथिक ओबेसिटी के किसी भी आराम का शिकार हो सकते हैं।

सांस लेने में परेशानी

ओबेसिटी के साथ-साथ टॉयलेट होने पर सांस लेने में परेशानी हो सकती है। वैसे ही ओबेसा का मानना ​​है कि ग्राफ से पीड़ित लोगों को सांस लेना मुश्किल होता है। गर्भावस्था में ये समस्या और भी गंभीर हो सकती है।

यह भी पढ़ें

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *