ट्रेन पर एक्स मार्क का मतलब क्या है वंदे भारत पर क्यों नहीं है?

वंदे भारत ट्रेन पर X का चिन्ह क्यों नहीं है: हर ट्रेन के आखिरी कोच पर एक्स का निशान होता है, जिसे सुरक्षा के मामले में बनाया जाता है। इसमें दर्शाया गया है कि यह कोच ट्रेन का अंतिम कोच है। हालांकि, वंदे भारत ट्रेन के आखिरी नंबर पर एक्स का निशान नहीं है। इसका कारण यह है कि वंदे भारत एक हाई स्पीड ट्रेन है और पूरी तरह से एटेचर्ड है। यह ट्रेन दोनों तरफ से चल सकती है, इसलिए इस पर X का निशान नहीं है।

अंतिम नमूना का प्रारंभिक भाग X का निशान है

वंदे भारत ट्रेन के बारे में जानने के बाद यह समझने में मदद मिलेगी कि दूसरी सूची में एक्स साइन क्यों होता है। रेलवे में सुरक्षा के मामले में कई तरह के संकेतों या संकेतों का इस्तेमाल किया जाता है। इसी तरह, ट्रेन के नवीनतम नवीनता पर एक्स का साइन विशेष रूप से रेलवे अधिकारियों और कर्मचारियों के लिए बनाया जाता है। एक्स का निशान बताता है कि वह ट्रेन का आखिरी डिब्बा है।

यह चिन्ह क्यों आवश्यक है?

जब भी कोई ट्रेन स्टेशन से वफादार होता है, तो रेलवे कर्मचारी आखिरी बार बने एक्स मार्क को देखते हैं। उस निशान को देखने के बाद उन्होंने पुष्टि की कि वह ट्रेन का आखिरी डिब्बा है। यदि X का निशान नहीं होता है, तो इसका अर्थ यह होता है कि उस ट्रेन के पिछले हिस्सों में लगाए गए डीजल ट्रेन से अलग-अलग हो गए हैं और पीछे-पीछे सभी जगह छूट दी गई है। इसके बाद, कर्मचारी तत्काल नियंत्रण कक्ष में फोन करते हैं और कर्मचारियों को बताते हैं कि इस ट्रेन के पिछले हिस्सों में कुछ शास्त्रीय ट्रेनों को अलग-अलग किया गया है और पीछे ही कहीं छूट दी गई है। इसलिए, किसी भी ट्रेन के आखिरी नंबर में एक्स का निशान बहुत महत्वपूर्ण है। अन्यथा, यह खतरे की स्थिति हो सकती है।

वंदे भारत ट्रेन की प्रजातियां

वंदे भारत ट्रेन एक्सप्रेस (वंदे भारत एक्सप्रेस) में ऑटो-समीक्षा उपकरण रेस्तरां और प्रत्येक द्वार के बाहर ऑटो-समीक्षा उपकरण रेस्तरां भी हैं। इससे यात्रियों को सुविधा मिलती है क्योंकि यह द्वार स्टेशन खुद-ब-खुद खुलता है। वंदे भारत ट्रेन में शेल्फ़ को पुनः प्राप्त करने की सुविधा भी है। इसके साथ ही, प्रत्येक सीट के नीचे अवैतनिक बिंदु भी होते हैं।

मनोरंजन का भी रखा जाता है तरीका

ट्रेन में यात्रियों के मनोरंजन का भी ध्यान रखा जाता है. 32 इंच का टीवी स्क्रीन भी होता है। वंदे भारत ट्रेन में यात्रियों की सुरक्षा का पूरा ध्यान रखा जाता है। इसमें फायर सेंसर, जीपीएस और कैमरा भी लगे होते हैं.

आस्था सुरक्षा दस्तावेज

वंदे भारत ट्रेन में “रेलवे सुरक्षा कवच” नामक सुरक्षा सुविधा भी होती है, जो इसे दूसरी तिमाही के संपर्क से जोड़ती है। यह विशेषता अनचाहे चिह्न से यात्रियों की सुरक्षा करने में मदद करती है। वंदे भारत एक्सप्रेस की परिचालन गति 160 किलोमीटर प्रति घंटा है। साइंटिफिक ब्रेकिंग सिस्टम भी है, जो कम समय में भी ट्रेन को रोकने में सहायता करता है। यात्रियों का ध्यान रखते हुए, ट्रैवल्स के हैंडल्स पर ब्रेल शीट में सीट नंबर लिखा होता है। इसके अलावा, एलेवेटर फ्रेंडली बॉयोस्पाइक भी होता है।

यह भी पढ़ें – सिर्फ लेफ्ट और राइट नहीं होता हैड फोन पर “L” और “R” लिखने का मतलब, समझें ये काम क्या होता है

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *